अनुसंधान शोध त्रैमासिक: अप्रैल-जून २०१३

04/02/2014, 12:20 am द्वारा वाङ्मय बुक्स, अलीगढ़ प्रेषित   [ 19/12/2014, 9:28 am अपडेट किया गया ]
अनुक्रम 
  • हिन्दी अस्मितामूलक पत्रकारिता का संकट एवं चुनौतियां - डॉ. (श्रीमती) के. के. रवि
  • बच्चन कृत मधुशाला का अनुभूति पक्ष: एक अध्ययन - कनुभाई करशनभाई भवा
  • महिला लेखन: विविध पहलू - डॉ. रीतू बहनोट
  • छायावादोत्तर हिन्दी कविता और जीवन मूल्य - निधि नागर / डॉ. कमलेश कुमारी रवि
  • कुँवर नारायण के काव्य में राजनीतिक चेतना - डॉ. पवन कुमार
  • तमस: देश विभाजन की एक हृदयद्रावक त्रासदी - प्रा. भरतभाई बावलिया
  • २०वीं सदी के अंतिम दशक के महिला उपन्यासकारों के उपन्यासों के विविध आयाम - प्रा. डॉ. ज्योति मुंगल
  • आधुनिक हिन्दी कथाओं में दलित संवेदना - रमेश मनोहर लमाणी
  • सुरेन्द्र वर्मा के उपन्यासों में सांस्कृतिक विघटन - श्री टी. टी. लमाणी
  • हिन्दी नवजागरण की अवधारणा - डॉ. सय्यद एक़बाल मजाज़
  • आत्मकथा: अनुभूति, यथार्थ और प्रतिक्रिया - डॉ. आनंद सिंदल
  • धरती धन न अपना उपन्यास में दलित चेतना - प्रा. गोविंद कुमार बेकरीया
  • रामदरश मिश्र के उपन्यासों में लोकगीत - प्रा. बसावा आनंदभाई दामजीभाई
  • निराला के काव्य में यथार्थ चेतना - प्रा. गामीत अनसुयाबेन अर्जुनभाई
  • मार्क्सवादी विचारधारा के परिप्रेक्ष्य में अब्दुल बिस्मिल्लाह के उपन्यासों के अध्ययन - अभिषेक कुमार पाण्डेय
  • आदिवासी समाज और शिक्षा - डॉ. भगवानसिंह जे. सोलंकी
  • विद्द्यार्थियों की सृजनशीलता का उनकी शैक्षिक उपलब्धि पर प्रभाव - डॉ. शोभनी श्रीवास्तव / डॉ. ज्योत्सना भटनागर
Keywords : Anusandhan shodh hindi patrika, traimasik, Vangmay Books, Aligarh
Ċ
वाङ्मय बुक्स, अलीगढ़,
04/02/2014, 12:24 am