वाङ्मय त्रैमासिक हिन्दी पत्रिका - अप्रैल २०१४

8 अप्रैल 2014, 11:13 am द्वारा वाङ्मय बुक्स, अलीगढ़ प्रेषित   [ 19 दिस॰ 2014, 9:23 am अपडेट किया गया ]

vangmay traimasik hindi patrika - april 2014
अनुक्रम

  • सम्पादकीय
  • स्त्री-पुरुष संबंधों के सन्दर्भ में निर्मल वर्मा की कहानियां - निर्मला देवी
  • कन्हैयालाल अग्रवाल के ग़ज़ल-संग्रह धीमी-धीमी आँच में संवेदना - कविता भदौरिया
  • राष्ट्र भाषा हिन्दी एवं स्वतंत्रता आन्दोलन - संगम वर्मा
  • डॉ. रांघेय राघव के उपन्यास में स्त्री शिक्षा और विमर्श - माला कुमारी
  • साहित्य और विज्ञान का अंतर्संबंध - श्रीमती वनदेवी दु. हुच्चण्णवर
  • समताधिस्ठित समाज में कबीर का योगदान - डॉ. (श्रीमती) तसनीम पटेल
  • साम्प्रदायिकता का सच और भारतीय समाज - अभिषेक कुमार पाण्डेय
  • संस्कृत में वाणिज्य - डॉ. ममता गुप्ता
  • उग्र के उपन्यासों में स्त्री संवेदना - डॉ. हरिनाथ
  • रमणिका गुप्ता की कविताओं में समकालीन यथार्थबोध - डॉ. शिव कुमार सी.एस. हडपद
  • नारी चेतना - यशवंती
  • डॉ. शंकर शेष की रंगदृष्टि: फंदी नाटक के विशेष सन्दर्भ में - डॉ. हर्षद कुमार चौहान
  • बाहिश्ते ज़हरा: ईरान का विस्थापन और तालिबानीकरण - करिश्मा अय्यूब पठाण
  • आधुनिक हिन्दी काव्यधारा में उपेन्द्रनाथ अश्क का योगदान - विकेश कुमार मिश्र
  • लोकतत्व की स्थापना के संदर्भ में हज़ारी प्रसाद द्विवेदी का चिन्तन - डॉ. रमाकांत
  • हितोपदेश, पंचतंत्र और कादम्बरी की किस्सागोई - राकेश रंजन
  • डॉ. नरेन्द्र कोहली के महाभारताश्रित उपन्यासों में जीवन मूल्य - प्रा. जयवंत दगा पवार
  • शंकर शेष के नाटकों में मिथकीय चेतना - प्रा. पवार आनंदराव राजाराम

कहानी / व्यंग्य / कविता / ग़ज़ल / समीक्षा

  • नमकीन प्रेम - सपना मांगलिक
  • अच्छा बेटा - सुषम बेदी
  • शव पेटिका (अनुवादक-सत्यनारायण राव) - एडोल्फ डिग्सिनेस्की
  • मत मर तू नेता - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
  • दमित इच्छा / मुस्कुराहट - दीप्ति शर्मा
  • असली जीवन शब्दों में असली मृत्यु शब्दों में - रश्मि प्रभा
  • ग़ज़ल - सैयद महमूद अहमद
  • समकालीनता के परिदृश्य में नर्द कवितायेँ - डॉ. राधेश्याम सिंह
  • संवादधर्मिता साक्षात्कार का सौंदर्य है - सुशील सिद्धार्थ
  • संवेदना के क्षय से चिंतित कविताएं - डॉ. वेदप्रकाश अमिताभ
  • तमन्नाओं के कारोबार से कुछ अधिक - रमाकान्त राय

Keywords : Vangmay traimasik hindi patrika, April 2014, Vangmay Books, Aligarh
Ċ
वाङ्मय बुक्स, अलीगढ़,
8 अप्रैल 2014, 11:13 am
Comments